सीबीएससी बोर्ड ने दसवीं की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। दसवीं के छात्रों की परीक्षा अब नहीं देनी होगी और अंदरूनी मूल्यांकन के आधार पर दसवीं के नतीजे घोषित किए जाएंगे। इस बीच 12वीं की परीक्षा पर फैसला 1 जून को लिया जाएगा। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री की बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है।

बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बच्चे लगातार मेहनत कर रहे थे अपनी पढ़ाई कर रहे थे कोविड-19 के खतरे के बीच सभी डरे हुए भी थे लेकिन इसके बावजूद अधिकारियों को देखते हुए दसवीं के बोर्ड की परीक्षा की तैयारी छात्र लगातार कर रहे थे इस बीच सीबीएसई बोर्ड में अब यह फैसला सुना दिया है कि दसवीं की परीक्षा को रद्द किया जाएगा हालांकि अभी 12वीं की परीक्षा को लेकर फैसला 1 जून को आएगा। पिछले 1 साल से यह कयास लगाए जा रहे थे कि आखिरकार जो बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्र छात्राएं हैं उनका क्या होगा लेकिन आपको बता दें कि बोर्ड ने किसी भी तरीके की कोई वैकल्पिक व्यवस्था ही नहीं कर रखी थी अब तक लगातार ही कहा जा रहा था कि परीक्षाएं तय समय पर होंगी लेकिन कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए बोर्ड को यह फैसला लेना पड़ा है।

आपको बता दें कि लगातार विपक्ष की तरफ से चाहे वह अरविंद केजरीवाल हो राहुल गांधी हो या सपा के अखिलेश सिंह यादव हो सभी लोगों का यह कहना था कि सरकार को इस पर एक बड़ा कदम उठाना चाहिए कोविड-19 के बढ़ते हुए मामलों को देखकर कहीं मुसीबतें और ना बढ़ जाएं और अंततः दसवीं के छात्रों के लिए राहत की खबर है।