आर्थिक संकट के संकेत बताने वाली चाणक्य नीति बेहद अहम है। आप इन बातों पर ध्यान देंगे तो आप आर्थिक संकट से बच सकते हैं।


chanakya-success-mantra_ आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya Niti)  को हमेशा से ही राजनीति व अर्थशास्त्र का ज्ञान बहुत अधिक था व इसके साथ ही उन्हें कई और विषयों का भी अच्छा खासा ज्ञान था इसलिए उन्हें ज्ञानदाता कहा जाता है। इतिहास के पन्नों में आचार्य जी हमेशा से ही बुद्धि कौशल में प्रसिद्ध रहे थे ।

ज्यादातर लोग इनकी नीतियों का आज भी इस्तेमाल करते हैं । आचार्य चाणक्य की इन नीतियां का  इस्तेमाल करके हम  अपना जीवन सरल और सुगम बना सकते हैं। चंद्रगुप्त मौर्य  नाम के  एक साधारण से बालक को उसकी होशियारी के चलते अपने मार्गदर्शन में आचार्य चाणक्य ने  राजगद्दी दिलाई । चंद्रगुप्ता मौर्य अपनी मेहनत और आचार्य चाणक्य की नीतियों के चलते ही राज गद्दी पर बैठ पाए। आचार्य ने पूरे जीवन में लोगों के भले के  बारे में काम किया और लोगो को अधर्म  का मार्ग छोड़ कर, धर्म का मार्ग अपनाने को तैयार किया।

आज हम आपको  इस लेख में बताएंगे की आचार्य चाणक्य की ऐसे कौनसे पांच संकेत  है  जो आपकी आर्थिक समस्याओं की ओर इशारा करते है और इस आर्थिक संकटों का जिक्र आचार्य चाणक्य ने अपनी  प्रसिद्ध नीति की क़िताब, चाणक्य नीति में भी  किया है।

जरूर पढ़िए – मेंटल हेल्थ (Mental Health) के लिए जरूरी हैं ये पांच हेल्दी फूड्स

तुलसी का पौधा 

हमारे हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को माता तुलसी का दर्जा दिया गया है और उसे पूज्यनीय भी माना जाता है। मान्यता है कि तुलसी के पौधे में मां लक्ष्मी वास करते हैं कि हमें ध्यान रखना चाहिए कि वह हर घर में रहे और उसकी देखभाल अच्छे से हो  हमें ध्यान रखना चाहिए कि तुलसी का पौधा कभी भी ना  सूखे क्योंकि  तुलसी का पौधा सूखना आर्थिक संकट  का संदेश देता है।

कांच का टूटना  

बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि कांच टूटना शुभ नहीं होता है। आचार्य चाणक्य का कहना था कि  अगर  बार-बार घर में कांच टूट  रहा है तो यह एक अशुभ संकेत है। कांच के टूटने से घर में दरिद्रता वास करने लगती है और आर्थिक हालात बिगड़ने लगते है।

लड़ाई होना

जिस घर में  हर समय क्लेश होता  रहता है वहां लक्ष्मी जी वास नही करती है । घर में रोज़ बेवजह झगड़े होना अशुभ होता है। कोशिश करें कि बेवजह  के झगड़ों से बचें  और घर में शांति का माहौल  बना कर रखे और आपस में प्रेमपूर्वक रहे।

बड़ों का अपमान

घर में बुजुर्गों का अपमान करना आपकी आर्थिक स्थिति को नुकसान पहुंचा सकता है । आचार्य चाणक्य मानते हैं जिस घर में बुजुर्गों का अपमान होता है वहां सुख समृद्धि निवास नहीं करती क्योंकि ऐसा करने से बड़े बुजुर्गों की बद्दुआ भी लग जाती है इसलिए बड़े बुजुर्गों को कभी भी कोई  ठेस ना पहुंचाएं और हमेशा उनका सम्मान करना सही रहता है।।

पूजा करना  

घर में पूजा पाठ करने से घर से  नकारात्मक शक्तियां का नाश होता है और सकारात्मक शक्तियों का वास होता है। घर में प्रतिदिन पूजा करने से  घर में शुद्धिकरण होता है। इससे घर में मां लक्ष्मी की कृपा  दृष्टि बनी रहती है ।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube