कानपुर के चौबेपुर में हुई मुठभेड़ में शहीद पुलिस कर्मियों की शहादत का बदला लेने के लिए कानपुर प्रशासन ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे के घर को गिरा दिया है। शनिवार को प्रशासन की एक टीम ने बिकरू गांव पहुंचकर विकास दुबे के किलेनुमा घर को गिरा दिया है।

पुलिस ने विकास दुबे के पिता रामकुमार दुबे को भी हिरासत में ले लिया है। इसी के साथ विकास के सभी बैंक खातों को सीज कर दिया गया है। पुलिस विकास की सभी संपत्तियों की जांच कर रही है।

चौबेपुर मुठभेड़ में चौबेपुर एसओ विनय तिवारी की भूमिका संदिग्ध मानते हुए आईजी रेंज कानपुर ने उन्हें तत्काल प्रभाव से सस्पेंड करने का ऑर्डर जारी कर दिया है। एसटीएफ की एक टीम विनय से मुठभेड़ के संबंध में पूछताछ भी कर रही है। बता दें कि विकास से फोन से कुछ पुलिस वालों के नबंर मिले हैं। जिनसे पूछताछ की जा रही है।

प्रशासन की टीम ने विकास के उसी घर को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया है जहां पुलिसकर्मियों की हत्या की गई थी। विकास ने ये घर अपने लिए सुरक्षित ठिकाने के तौर पर बनाया था। घर में दो दर्जन से अधिक सीसीटीवी लगाए गए थे। चाहरदीवारी तकरीबन 15 फिट थी। इसके ऊपर कंटीले तारों से घनी फेंसिंग की गई थी। यही नहीं घर के भीतर भी सुरक्षित बच निकलने के लिए इंतजाम किए गए थे।