लहसुन खाने के फायदे हैं। कई लोग खाली पेट लहसुन खाने की सलाह देते हैं। ऐसे में आज हम आपको बता रहें हैं कि लहसुन कितनी फायदेमंद हो सकती है


Photo by Engin Akyurt from Pexels

लहसुन (Garlic) सदियों से रसोई का हिस्सा रहा है. लहसुन का इस्तेमाल व्यापक रूप से खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है. लेकिन प्राचीन और आधुनिक इतिहास में इसका इस्तेमाल एक औषधि के रूप में भी किया जाता है. लहसुन का इस्तेमाल कई प्रकार की बीमारियों की रोकथाम के लिए किया जाता है. लहसुन में मैंगनीज (manganese), सेलेनियम (selenium), विटामिन सी (vitamin C), विटामिन बी 6 (vitamin B6), एलिसिन (allicin) और अन्य एंटीऑक्सिडेंट (antioxidants), विटामिन और मिनरल्स (minerals) से भरा हुआ है. लहसुन के स्वास्थ्य लाभों को सदियों से मान्यता प्राप्त है.

 

जब से प्राचीन यूनानी चिकित्सक हिप्पोक्रेट्स (physician Hippocrates) ने इसे सभी प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए निर्धारित किया है. अब मॉडर्न चिकित्सा भी लहसुन के उपचार गुणों को भी गले लगा रही है. एक हालिया अध्ययन के अनुसार लहसुन खाने से रक्त वाहिकाओं को आराम और रक्त प्रवाह बढ़ाने का काम करता है. इसलिए अपने शरीर को फिट रखने के लिए अपने दैनिक आहार में ताज़े लहसुन की कलियां शामिल करें. आज हम आपको बताएंगे रोजाना लहसुन का सेवन करने से आपको कौन कौन से लाभ होते हैं.

लहसुन खाने के स्वास्थ्य लाभ:

कफ एंड कोल्ड में फायदेमंद: कच्चा लहसुन खांसी और सर्दी के संक्रमण को दूर करने की क्षमता रखता है. लहसुन की दो कलियां खाली पेट दांतों से कूंचकर खाने से इसका सबसे ज्यादा फायदा होता है. शोधकर्ताओं के अनुसार बच्चों के गले में लहसुन की कलियां बांधने से कंजेशन के लक्षणों से राहत मिलती है.

कार्डियक हेल्थ के लिए अच्छा है

लहसुन में पाया जाने वाला एलिसिन यौगिक, एलडीएल (खराब कोलेस्ट्रॉल) के ऑक्सीकरण को रोकता है. यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और हृदय स्वास्थ्य में सुधार करता है. लहसुन का नियमित सेवन रक्त में जमे थक्कों को कम करता है और थ्रोम्बोम्बोलिज़्म (thromboembolism) को रोकने में मदद करता है. लहसुन रक्तचाप को भी कम करता है, इसलिए उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए यह फायदेमंद है.

garlic

ब्रेन फंक्शनिंग को बेहतर बनाता है: लहसुन अपने एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लामेट्री (anti-inflammatory ) गुणों के कारण मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ियां करता है. यह अल्जाइमर (Alzheimer) और मनोभ्रंश (dementia) जैसे न्यूरोडीजेनेरेटिव (neurodegenerative) रोगों के खिलाफ प्रभावी है.

ये भी पढ़िए – लहसुन खाने के ये हैं फाएदे, इसलिए कीजिए इस्तमाल

पाचन में सुधार करता है: आहार में कच्चे लहसुन को शामिल करने से पाचन समस्याओं में सुधार होता है. यह आंतों को लाभ पहुंचाता है और सूजन को कम करता है. कच्चा लहसुन खाने से आंतों के कीड़े साफ हो जाते हैं. अच्छी बात यह है कि यह खराब बैक्टीरिया को नष्ट करता है और आंत में अच्छे बैक्टीरिया को बचाता है. खाली पेट लहसुन खाने से भी पाचन बेहतर होता है. इसके साथ ही पोषण भी अच्छा होता है.

रक्त शर्करा (Blood Sugar) को संतुलित करता है: जो लोग मधुमेह से पीड़ित हैं वे लहसुन का सेवन करें और इसके बाद अपना ब्लड शुगर लेवल टेस्ट करें. आपको फर्क दिखाई देगा.

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है: कच्चे लहसुन के सेवन से इम्यून सिस्टम बढ़ता है. यह मुक्त कणों ( free radicals) और डीएनए को नुकसान से बचाता है. लहसुन में जस्ता (Zinc) प्रतिरक्षा को बढ़ावा देता है. विटामिन सी (Vitamin C) संक्रमण से लड़ने में मदद करता है. लहसुन आंख और कान के संक्रमण के खिलाफ बहुत फायदेमंद है, क्योंकि इसमें रोगों से लड़ने के गुण (antimicrobial properties) हैं.

स्किन हेल्थ अच्छी होती हैं: लहसुन मुंहासे को रोकने में मदद करता है और मुंहासे के निशान को हल्का करता है. ठंड के घावों, छालरोग (psoriasis), रैशेस आदि पर लहसुन का रस लगाने से रोग क साथ दाग धब्बे भी गायब हो जाते हैं. यह यूवी किरणों से बचाता है और एंटी एजिंग का काम करता है.

garlic

कैंसर और पेप्टिक अल्सर को रोकता है: एंटीऑक्सीडेंट की अधिक मात्रा के कारण, लहसुन फेफड़ों, प्रोस्टेट, मूत्राशय, पेट, यकृत (liver) और पेट के कैंसर से शरीर की रक्षा करता है. लहसुन की जीवाणुरोधी क्रिया पेप्टिक अल्सर को रोकती है, क्योंकि यह आंत (Gut) से इंफेक्शन को समाप्त करता है.

वजन घटाता है: लहसुन वसा (Fat) को जमा करने वाले वसा कोशिकाओं (adipose cells) के निर्माण के लिए जिम्मेदार जीन (genes) को कम करता है. यह शरीर में थर्मोजेनेसिस (thermogenesis) को भी बढ़ाता है और अधिक फैट बर्न और एलडीएल (खराब कोलेस्ट्रॉल) को कम करता है.

यूटीआई से लड़ता है और गुर्दे के स्वास्थ्य में सुधार करता है: ताजे लहसुन के रस में ई कोली बैक्टीरिया (E. Coli bacteria) की वृद्धि को कम करने की क्षमता होती है, जो मूत्र पथ के संक्रमण (UTI) का कारण बनते हैं. यह गुर्दे के संक्रमण को रोकने में भी मदद करता है.

लहसुन घावों पर संक्रमण को कम करता है, बाल बढ़ाने, हड्डियों के स्वास्थ्य और किडनी(kidney) के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है. कच्चे लहसुन के सेवन से ही यह घरेलू उपचार प्रभावी होंगे.


समाचारों के लिए हमें ईमेल करें – khabardevbhoomi@gmail.com। हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube