हालात सुधरने पर ही शुरु होगी उत्तराखंड में चारधाम यात्रा

234

कोरोना के दौर में बंद उत्तराखंड में चारधाम यात्रा कोरोना के हालात सुधरने पर शुरु की जा सकती है। पर्यटन मंत्री ने इस संबंध में इशारा किया है।


फत्तराखंड के पर्यटन मंत्री satpa maharaj l
FILE

उत्तराखंड में कोरोना के चलते ठप पड़ी चारधाम यात्रा कोरोना महामारी के हालात सुधरने पर जल्द ही शुरु हो सकती है। उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि महामारी से हालात सामान्य होते ही यात्रा संचालित की जाएगी। उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग से सबसे पहले स्थानीय लोगों को दर्शन की अनुमति दी जा सकती है। दरअसल इन्ही जिलों में चारों धाम पड़ते हैं।

 

पर्यटन मंत्री व चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के उपाध्यक्ष सतपाल महाराज ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे कम हो रहा है। हालात सामान्य होने पर सरकार की ओर से चारधाम यात्रा का संचालन किया जाएगा। इसके लिए पर्यटन व देवस्थानम बोर्ड यात्रा शुरू करने की तैयारी कर रहा है।

सबसे पहले चमोली, रुद्रप्रयाग व चमोली जिले के स्थानीय लोगों को दर्शन की अनुमति दी जाएगी। स्थानीय लोगों के लिए चारधाम कुल देवता हैं। जिसके बाद जिले और उसके बाद प्रदेश के साथ दूसरे राज्यों को चारधाम यात्रा खोलने का निर्णय लिया जाएगा।

ये भी पढ़िए – बड़ी खबर। उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार पड़ी धीमी, संयम रखा तो जीत तय

अनशन खत्म कराने का दावा

उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि बदरीनाथ धाम में अनशन कर रहे मौनी बाबा व बाबा धर्मवीर भारती ने अपना आमरण अनशन समाप्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकटकाल को देखते हुए साधु संतों को भी कोविड नियमों का पालन करना होगा। वर्तमान में श्रद्धालुओं, यात्रियों सहित किसी को भी चारधाम यात्रा की अनुमति नहीं है। बदरीनाथ धाम में रह रहे मौनी बाबा एवं बाबा धर्मवीर भारती भगवान बदरी विशाल के दर्शन करने के लिए 23 मई से अपने लालबाबा आश्रम बदरीनाथ में अनशन पर थे।

हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अनशनकारी मौनी बाबा ने कहा कि उनका अनशन जारी है और इस संबंध में सतपाल महाराज के साथ उनकी कोई बातचीत भी नहीं हुई है।

पिछली साल भी रही थी बंद

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पिछले साल भी कोरोना महामारी के चलते बंद पड़ी रही। 2020 के शुरुआती महीनों में ही कोरोना ने देश को अपनी चपेट में लिया। इसके बाद उत्तराखंड में भी कोरोना के मामले बढ़ने लगे। चारधाम तक कोरोना संक्रमित न पहुंचे इसे देखते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चार धाम स्थगित कर दी। इसके चलते यात्रा से जुड़े हजारों व्यवसायियों के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया। हालात ये हुए कि पूरा सीजन बीत गया। व्यवसायियों को इस साल उम्मीद थी लेकिन इस बार भी कोरोना का साया पड़ गया।


समाचारों के लिए हमें ईमेल करें – khabardevbhoomi@gmail.com। हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube