कोविड-19 की महामारी की दूसरी लहर ने एक बार फिर सारी दुनिया को अपनी गिरफ्त में लेना शुरु कर दिया है. खबरों के अनुसार गत वर्ष की तुलना में 3 गुना ज्यादा गति से कोविड पीड़ितों की संख्या बढ़ रही है. यद्यपि इसके खिलाफ कुछ वैक्सीन आ चुके हैं, लेकिन कोरोना किसी को नहीं बख्स रहा है. आज भी लोग सोशल डिस्टेंसिंग औऱ मास्क को ही आत्म-रक्षा का सबसे बड़ा आधार मान रहे हैं. आज भी चिकित्सक रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity) को बेहतर बनाने का सुझाव दे रहे हैं. उनका मानना है कि आपकी इम्युनिटी दुरुस्त रहेगी तो कोरोना आपका कुछ खास नहीं बिगाड़ सकेगा. ऐसे में सवाल उठता है कि आप कैसे जान सकते हैं कि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है या मजबूत?

डाक्टरों के अनुसार इम्युनिटी कमजोर होने के कई कारण हो सकते हैं. अमूमन सामान्य बच्चों की इम्यूनिटी इतनी मजबूत होती है कि वे दवा के बिना कई प्रकार के संक्रमण से लड़ सकते हैं. लेकिन बढ़ती उम्र के साथ इम्युनिटी कमजोर होने लगती है. अकसर हमारी लाइफ स्टाइल भी हमारी कमजोर इम्युनिटी की वजह बनती है, इससे वायरस से नुकसान का खतरा बढ़ जाता है. एक वजह यह भी हो सकती है कि कोई व्यक्ति अगर पहले से ही किसी छोटी-बड़ी बीमारी से जूझ रहा है तो उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है, यद्यपि ऐसे सभी मरीजों की इम्युनिटी कमजोर हो ही, यह जरूरी नहीं है, लेकिन अधिकांश मरीजों की यह कमजोरी होती है. कभी-कभी तो मौसम परिवर्तन के कारण भी इम्युनिटी पर असर पड़ता है.’

क्या किसी और कारण से भी व्यक्ति विशेष की इम्युनिटी प्रभावित हो सकती है? जवाब में डाक्टर बताते हैं,- ‘हां, कमजोर इम्युनिटी की और भी वजहें हो सकती हैं, मसलन धूम्रपान या शराब की लत, भूख नहीं लगना, पर्याप्त नींद नहीं ले पाना, पौष्टिक पदार्थों की जगह फास्ट फूड पर ज्यादा निर्भर रहना जैसी आदतें इम्युनिटी को कमजोर करती है.’ डाक्टरों की माने तो आप चाहें तो खुद भी अपनी इम्युनिटी की जांच कर सकते हैं. जैसे अगर आपको स्वयं में ये पांच लक्षण दिखाई दें तो समझ लीजिये कि आपकी इम्युनिटी कमजोर है और उसे बढ़ाने की तत्काल आवश्यकता है. मजबूत इम्यून सिस्टम हमें कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है.

कमजोर इम्यूनिटी के लक्षणः

* आंखों के नीचे काले घेरे

* प्रातःकाल उठने पर ताजगी महसूस नहीं करना

* एकाग्र होने में असमर्थता महसूस करना

* पेट की समस्या

* खीझ महसूस करना,

* छोटे-बड़े रोगों का बार-बार आक्रामक होना

* छोटे-मोटे काम के बाद थकान महसूस होना

* हल्का-सा ठंडा या गरम खाने से छींके या खांसी का आना.

उल्लेखनीय है कि कोरोना से देश बेहाल होता जा रहा है. हर रोज कोरोना अपना नया कीर्तिमान स्थापित कर रहा है. देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के 2 लाख से ज्यादा मामले देखने को मिले हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटों में 2,17,353 नए कोविड-19 के मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि हजार से अधिक लोगों की मौत हुई है.

 

ये लेख सामान्य अवधारणा के आधार पर लिखा गया है। इसमें कोई चिकित्सकीय दावा शामिल नहीं है। आप अपने विवेक का प्रयोग करें।