देहरादून के ननूरखेड़ा स्थित शिक्षा निदेशालय में धरने पर बैठे डायट डीएलएड का धरना भारी बारिश में भी लगातार जारी है। यही नहीं प्रशिक्षितों ने ऐलान किया है कि वो गुरुवार को विधानसभा कूच करेंगे।


dait dld

डायट डीएलएड प्रशिक्षितों की नाराजगी लगातार बढ़ती जा रही है। नियुक्ति की मांग को लेकर शिक्षा निदेशालय पर धरने पर बैठे प्रशिक्षितों का धरना भारी बारिश में भी जारी है। प्रशिक्षितों ने जो टेंट लगाया था वो भारी बारिश में फट गया। इसके चलते पूरा धरना स्थल पानी पानी हो गया। लेकिन इसके बावजूद डायट डीएलएड प्रशिक्षित पानी में ही बैठकर अपना धरना जारी रखे हुए हैं। डायट डीएलएड प्रशिक्षित की माने तो नियुक्ति पत्र लेकर ही वो हटेंगे। प्रशिक्षितों की माने तो बेरोजगारी से बड़ी ना ही कोई आपदा है और ना ही कोई जिल्लत।

मिले झूठे आश्वासन

बता दे कि डायट डीएलएड प्रशिक्षित वर्ष 2019 में विभाग द्वारा कराए जाने वाला 2 वर्ष का प्रशिक्षण प्राप्त कर नौकरी की मांग लेकर हर अधिकारी व मंत्री के पास गुहार लगाते रहे परन्तु हर तरफ से झूठे आश्वासन के सिवाय कुछ हासिल नहीं हुआ। थके हारे प्रशिक्षुओं ने अक्टूबर 2020 में धरना देकर प्राथमिक शिक्षक भर्ती निकलवाई। भर्ती निकलने के इतने महीने बाद भी जब सरकार व विभाग द्वारा कोई सुध नहीं ली गयी तो पुनः कोरोना जैसी महामारी में डायट डीएलएड प्रशिक्षितों को धरना प्रदर्शन करने पर मजबूर होना पड़ा।

 

प्रदेश सचिव हिमांशु जोशी ने कहा कि हमारी सरकार से एक ही मांग है यदि जल्दी से जल्दी हमारी मांग को नहीं माना गया तो धरना और उग्र होगा। धरना नीति स्पष्ट करते हुए उन्होंने बताया कि कल डायट संघ अपने बैनर तले पूरे संख्याबल के साथ विधानसभा कूच करेगा, जिसमे हमारी एक ही मांग है कि कोर्ट में दायर वाद की पैरवी महाधिवक्ता महोदय द्वारा की जाए ताकि माननीय उच्च न्यायालय में लंबित प्राथमिक शिक्षक भर्ती सम्बंधित समस्त वादों का शीघ्र निस्तारण हो सके। यदि वादों का शीघ्र निस्तारण नहीं हुआ तो डायट संघ  भूख हड़ताल करने पर मजबूर होगा और इसका पूर्ण जिम्मा शासन व प्रशासन के ऊपर होगा।

 

डायट प्रशिक्षित प्रकाश रानी का कहना है कि हम विभाग के सताए हुए है तभी यहां पर आने को मजबूर हुए है। और हम तब तक धरनास्थल से नहीं उठेंगे जब तक सरकार हमारी मांग स्वीकार नहीं कर लेती।।

हम अपनी नियुक्ति के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। सरकार को चेताने के लिए हमारे पास इसके सिवाय अन्य कोई विकल्प शेष नहीं बचा है।।

संघ के मुख्य सलाहकार नवीन कंडियाल ने कोरोना महामारी की याद दिलाते हुए बोला कि हम सभी प्रशिक्षित अपने स्वास्थ्य की परवाह किये बिना धरनास्थल पर डटे हुए है और हम यहां से तभी हटेंगे जब हमारी भर्ती सरकार पूरी करेगी।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube