देहरादून में हुए डबल मर्डर केस का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया है।


देहरादून में डबल मर्डर premnagar double murder caseदेहरादून के प्रेमनगर में धौलास इलाके में हुए डबल मर्डर का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार व्यक्ति ने कोठी में काम न मिलने से नाराज होकर दोनों की हत्या कर दी।

पिछले दिनों धौलास इलाके में एक कोठी में दो लोगों के शव मिले थे। इनमें से एक शव कोठी की मालकिन उन्नति शर्मा और दूसरा कोठी के चौकीदार राजकुमार का था।

पुलिस ने इस मामले की तहकीकात शुरु की। पुलिस ने कोठी और आसपास के सीसीटीवी फुटेज चेक किए तो कुछ संदिग्ध दिखे। पुलिस ने हुलिए के आधार पर उन्नति शर्मा के घर वालों से पूछताछ शुरू की।

इसी दौरान पुलिस को एक शख्स पर शक हुआ। पुलिस ने आदित्य नाम के युवक की तलाश शुरु की। पता चला कि आदित्य कुछ दिनों पहले कोठी में काम मांगने पहुंचा था। उन्नति शर्मा ने उसे कुछ दिनों के लिए काम पर रखा और बाद में हटा दिया।

इस बीच आदित्य इधर उधर काम की तलाश में रहा। लेकिन उसे कोई खास ठिकाना नहीं मिल सका। इसी बीच अपनी मांग को लेकर आदित्य ने अपना किराए का घर छोड़ दिया और पट्टे की जमीन पर टीन शेड डालकर रहना शुरु किया। इसी दौरान आर्थिक तंगी से परेशान आदित्य फिर एक बार कोठी पर काम मांगने पहुंंचा।

उन्नति शर्मा ने उसे कोठी पर तो काम नहीं दिया लेकिन उसे पास की एक दुकान पर काम दिलाने के लिए ले गईं। दुकानदार ने उसे काम तो दिया लेकिन दुकान में ही रहने के लिए कहा। इसपर आदित्य ने मां के साथ दुकान में रहने में असमर्थता जताई और काम नहीं किया।

इसी बीच आदित्य को लगा कि जब तक कोठी में राजकुमार थापा बना रहेगा तब तक उसे वहां काम नहीं मिलेगा। ऐसे में आदित्य ने राजकुमार थापा को रास्ते से हटाने की तैयारी की।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube


पैदल पहुंचा और दो कत्ल कर दिए

पुलिस के मुताबिक इसके लिए आदित्य 29 सितंबर को दोपहर में पैदल ही जंगल के रास्ते कोठी तक पहुंचा और दीवार फांदकर भीतर घुसा। इसी बीच उसका सामना राजकुमार थापा से हो गया। आदित्य ने पास पड़ी राड से राजकुमार थापा के सिर पर दो बार वार किए। इस हमले में राजकुमार थापा जमीन पर गिर पड़ा। इसी बीच घर की मालकिन उन्नति शर्मा मौके पर पहुंच गईं। उन्होंने आदित्य को देख लिया।

आदित्य ने उन्नति शर्मा को भी रास्ते से हटाने का फैसला किया और उनके सिर पर भी लोहे की राड से वार कर दिए। इस हमले में उन्नति भी जमीन पर गिर पड़ीं।

इसके बाद आदित्य ने गला दबाकर दोनों की मौत का इत्मिनान किया। इसके बाद दोनों के शवों को पास ही पड़ी एक पॉलीथीन से ढंक कर भाग गया।

त्रिशूल पर्वत के लिए निकले पर्वतारोही दल के 6 सदस्य एवलांच में फंसे, लापता

शातिराना अंदाज, अस्पताल में हुआ एडमिट

पुलिस से बचने के लिए आदित्य ने बड़े ही शातिराना तरीके से अपने बीमार होने का नाटक किया और 108 सेवा से दून अस्पताल में एडमिट हो गया। इसके बाद जैसे ही वो डिस्चार्ज हुआ पुलिस ने उसे एक तारीख को अरेस्ट कर लिया। पुलिस की पूछताछ में आदित्य ने पूराे हत्याकांड पर से पर्दा उठा दिया।

आदित्य कुछ दिनों पूर्व तक देहरादून के गढ़ी कैंट इलाके में रहता था। वो अपनी मां के साथ एक घर में किराए पर रहता था। आदित्य ने सेना में जाने के लिए भी प्रयास किए। सेना भर्ती में होने वाली दौड़ में वो पास भी हो गया लेकिन बाद में फिजिकल में वो छंट गया।

आदित्य पिछले कुछ वक्त से आर्थिक तंगी से गुजर रहा था और अपना जीवन चलाने के लिए उसने कई लोगों से उधार भी ले रखा था।