उत्तराखंड के देहरादून में 2018 में एक अध्यापक किशोर चौहान की कार में संदिग्ध हालात में लाश मिली थी। इस घटना ने पूरे देहरादून में सनसनी फैला दी थी। पुलिस भी इस मामले में कुछ देर तक ब्लैंक रही।


LOVE AFFAIRS

 

अभी जांच शुरु ही हुई थी कि किशोर के भाई ने किशोर की पत्नी के खिलाफ तहरीर देकर सभी को चौंका दिया। इसके बाद पुलिस की जांच को नई दिशा मिल गई।

 

पुलिस ने किशोर की पत्नी स्नेहलता को गिरफ्तार किया। पुलिस ने जब अपने तरीके से पूछताछ की तो स्नेहलता को टूटते देर नहीं लगी। इसके बाद जो खुलासा हुआ उसे सुन पुलिस वाले भी हैरान हो गए।

ये भी पढ़िए – स्विमिंग पूल में छटपटाता रहा शख्स, देखते रहे दोस्त, मौत

स्नेहलता ने अपने पति किशोर चौहान के कत्ल की जो वजह बताई हो मानवीय रिश्तों को दागदार करने वाली थी। दरअसल स्नेहलता और किशोर चौहान हंसी खुशी अपना जीवन बिता रहे थे। इसी बीच स्नेहलता अपने पुराने प्रेमी अमित के संपर्क में आई। दोनों की मुलाकात सोशल मीडिया साइट पर हुई।

 

स्नेहलता और अमित एक ही उम्र के हैं और लगभग साथ ही पढ़े हुए हैं। 1999 में अमित डीएवी से और स्नेह लता डीबीएस पीजी कॉलेज से बीएससी की पढ़ाई कर रही थी। इसके बाद वर्ष 2000 में अमित का आईटीबीपी में चयन हो गया। बाद में 2006 में अमित उत्तराखंड पुलिस में भर्ती हो गया और आईटीबीपी से इस्तीफा दे दिया। इस बीच 2004 में अमित की शादी भी हो गई। इधर स्नेहलता से भी उसका संपर्क कम होने लगा। 2005 में स्नेहलता और किशोर की शादी के बाद संपर्क लगभग टूट गया।

ये भी पढ़िए – Uttarakhand: फीस एक्ट को लेकर सुस्त सरकार, अब नया प्राधिकरण बनाने की तैयारी

इस बीच दोनो की जिंदगी अपने अपने हिसाब से बेहतर चल रही थी। इसी बीच सोशल मीडिया नेटवर्क पर दोनों की मुलाकात हुई। दोनों फिर एक दूसरे के करीब आ गए। दोनों में कोई बंधन नहीं रहा। अवैध संबंधों की एक नई दास्तान दोनों के बीच लिखी जाने लगी।

 

लेकिन ये सबकुछ अधिक दिन तक छुपा नहीं रह सका। स्नेहलता के पति किशोर को अमित और स्नेहलता के अवैध संबंधों के बारे में पता चल गया। इसके बाद से पति पत्नी के बीच झगड़ा शुरु हो गया। दोनों के बीच अक्सर विवाद होने लगा।

 

इसी बीच अमित ने स्नेहलता के साथ रहने का मन बना लिया। अब सबके बड़ी चुनौती स्नेहलता के पति किशोर को रास्ते से हटाने की थी। अमित और स्नेहलता ने किशोर को मारने की प्लानिंग की। इसके बाद किशोर की गला दबाकर हत्या कर दी गई। बाद में किशोर की लाश कार में डालकर रायपुर रिंग रोड पर छोड़ दिया।

 

पुलिस ने अमित और स्नेहलता को गिरफ्तार कर मुकदमा चलाया। सबूतों और गवाहों के बयानों के आधार पर देहरादून की अदालत ने अमित और स्नेहलता को दोषि करार दिया। इसके बाद दोनों को जेल भेज दिया गया।

 

अवैध संबंधों के चलते दो परिवार उजड़ गए। अमित के तीन बच्चे हैं जिनमें दो बेटियां और एक बेटा है।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube