देहरादून का लाल राजौरी में शहीद, शादी के कार्ड बांटकर लौटे पिता को मिली शहादत की खबर…

547

देहरादून निवासी मेजर चित्रेश बिष्ट कश्मीर के राजौरी में आईईडी धमाके में शहीद हो गए। धमाका उस वक्त हुआ जब वे आईईडी को डिफ्यूज कर रहे थे। मेजर चित्रेश भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून से वर्ष 2010 में पासआउट हुए थे।वे उत्तराखंड पुलिस के सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर एसएस बिष्ट के बेटे थे। उनकी शहादत की सूचना मिलते ही परिवार में शोक की लहर दौड़ गई है। मेजर चित्रेश का परिवार राजधानी के नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में रहता है। मूल रूप से एसएस बिष्ट रानीखेत के पीपली गांव के रहने वाले हैं। परिवार के लोगों ने बताया कि मेजर चित्रेश की सात मार्च को शादी होने वाली थी। इसके लिए शादी के निमंत्रण पत्र भी बंट चुके थे।

पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए हमले से अभी देश उबरा भी नहीं की सेना के एक और अधिकारी के शहीद होने की बात सामने आयी है। जम्मू कश्मीर के राजौरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास अचानक विस्फोट हो गया। इसमे सेना के अधिकारी मेजर चित्रेश बिष्ट शहीद हो गए हैं, जबकि एक सैनिक घायल हुआ है।। अधिकारी इंजीनियर कॉर्प्स के थे।आतंकियों की तरफ से प्लांट किए गए आईईडी विस्फोटक को डिफ्यूज करते वक्त यह घटना हुई। जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के डेढ़ किलोमीटर अंदर आईईडी विस्फोटक को प्लांट किया गया था।

इससे पहले, 11 जनवरी को भी राजौरी जिले के नौशेरा में ही IED ब्लास्ट हुआ था। इस धमाके में सेना का एक अधिकारी और एक जवान शहीद हो गए थे। आतंकवादियों ने लाम सेक्टर में सीमा पर गश्त कर रहे सैनिकों को निशाना बनाकर नियंत्रण रेखा से लगे मार्ग में आईईडी लगा रखा था।