CM के लिए”कुर्बान” होंगे हरक सिंह रावत या रास आ गई राजनीति की “मलाई”

710

राजनीति का लड्डू ऐसा है जो खाए वह पछताए जो न खाए वह पछताए और इसी की तर्ज पर शायद हरक सिंह रावत राजनीति का मलाईदार लड्डू खाने के लिए तैयार होते हुए दिख रहे हैं। अभी हाल ही में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने यह ऐलान किया था कि जो भी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के लिए अपनी सीट छोड़ेगा उसे लोकसभा का चुनाव लड़ाया जा सकता है। और इस संबंध में अपनी पार्टी के अलावा उन्होंने कांग्रेस के गिरगिटों को भी लगभग न्योता दे ही डाला था कि तभी हरक सिंह रावत ने मौजूदा मौके को लपकते हुए कोटद्वार सीट सीएम के लिए छोड़ने की इच्छा बीजेपी आलाकमान को ज़ाहिर कर दी है।

उत्तराखंड सरकार के 4 साल पूरे होने से महज कुछ दिन पूर्व ही तत्कालीन मुख्यमंत्री को बदल दिया गया और उनकी जगह ली मौजूदा सीएम तीरथ सिंह रावत ने। नेतृत्व परिवर्तन के तुरंत बाद से ही यह कयास लगाए जा रहे थे कि आखिरकार मौजूदा निजाम के आला को कौन सी सीट दी जाएगी । हाल ही में सल्ट सीट पर होने वाले चुनावों को लेकर कयास बाजी और अटकलों का बाजार गर्म था लेकिन हरक सिंह रावत के पौड़ी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की इच्छा को देखते हुए अब यह माना जा रहा है कि परिस्थितियां धीरे-धीरे बदल रही हैं।

हालांकि अपने फैसलों से सभी को चौंका देने वाली बीजेपी के लिए यह कहना अभी जल्दबाजी होगी कि क्या हरक सिंह रावत की इस इच्छा को आलाकमान की स्वीकृति मिलेगी ! लेकिन इतना तो तय है कि कुर्बानी देने के नाम पर राजनीति की रबड़ी सभी खाना चाहते हैं; यानी कि आम के आम और गुठलियों के दाम।