आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों को अपनी नींद को लेकर खासी समस्याएं होती हैं। अक्सर लोगों को शिकायत रहती है कि उन्हें अच्छी नींद नहीं आती।

अच्छी नींद सेहत के लिए बेहद जरूरी है, यह हम सब जानते हैं। लेकिन अधिकांश लोगों को शिकायत होती है कि वे अच्छी नींद नहीं ले पाते। कभी मानसिक तनाव तो कभी काम का दबाव। आज की जीवनशैली में कई बार हम पूरी नींद भी नहीं ले पाते, अच्छी नींद तो दूर की बात है। लेकिन छह से आठ घंटे की अच्छी नींद हम कैसे ले सकें, यह सवाल मन में तो रहता ही है। स्वस्थ और तंदुरुस्त रहने के लिए अच्छी और गहरी नींद बहुत जरूरी है, क्योंकि अच्छी नींद स्वास्थ्य के लिए जरूरी चार अहम बातों में से एक है। इससे दिल और दिमाग का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। गहरी नींद से शरीर खुद को तरोताजा करता है। ग्रोथ हार्मोन या एंटी एजिंग हार्मोन भी नींद के दौरान ही काम करते हैं। नींद पूरी नहीं होने पर आंखों के नीचे कालापन और बालों के झड़ने जैसी समस्याएं आने लगती हैं।

जानकारों की माने तो कि शरीर में सेल्स के जेनरेशन, लीवर की सफाई, मांसपेशियों के विकास और ब्लड शुगर को सामान्य रखने के लिए भी गहरी नींद बहुत जरूरी है। अच्छी और गहरी नींद का मतलब ये नहीं है कि आप जरूरत से ज्यादा सोएं। एक व्यक्ति को कम-से-कम 6 घंटे और ज्यादा-से-ज्यादा 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। इससे कम या ज्यादा की स्थिति में मानसिक और शारीरिक रूप से नुकसान पहुंचता है। अपर्याप्त नींद के कारण अनेक मानसिक बीमारियां उत्पन्न हो सकती हैं। वहीं ज्यादा देर तक सोने से सीने में कफ और आलस्य की समस्या आम बात है।

सुबह में व्यायाम करें
डॉक्टरों की मानें तो अगर कोई व्यक्ति सुबह व्यायाम करे तो रात में उसे अच्छी नींद आ सकती है। वैसे कुछ लोग शाम में व्यायाम करते हैं। ये भी ठीक है, लेकिन व्यायाम और सोने के समय में कम-से-कम तीन घंटों का फासला होना जरूरी है। यह फासला इसलिए, क्योंकि व्यायाम करने से रक्त का बहाव तेज हो जाता है। सबसे अच्छा यही होगा कि सुबह में एक्सरसाइज की जाए।

सोने से पहले स्नान करें
ये चकित करने वाली बात जरूर है, लेकिन है बिल्कुल सच। सोने से पहले स्नान करने से नींद अच्छी आती है। अपने बाथ टब में बाथ सॉल्ट या लैवेंडर तेल का अर्क डालें और खुद को कुछ देर उसमें रखें। आपको आराम महसूस होगा और अच्छी नींद आएगी।

कैफीन से बचें
सोने से पहले या शाम के समय अत्यधिक कॉफी या चाय से बचना चाहिए। चाय और कॉफी में कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जिनसे उत्तेजना बढ़ती है और मस्तिष्क को जागृत कर देती है। ऐसे में नींद आपसे दूर भाग जाती है।

धूम्रपान या शराब न पीएं
अच्छी नींद चाहते हैं तो आज से ही, बल्कि अभी से धूम्रपान छोड़ दीजिए। अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो एक-एक करके छोड़ें। खासकर सोने जाने से पहले धूम्रपान बिल्कुल नहीं करें, क्योंकि यह नींद का सबसे बड़ा दुश्मन है। शराब पीना भी नींद के लिए नुकसानदेय है।

सोने का समय निश्चित करें
अपने सोने व जागने का समय तय करें। खुद को काफी देर तक जगाए न रखें, इससे नींद गायब हो जाती है। इस कारण हानिकारक एडेरेनाइन हार्मोन का उत्पादन बढ़ जाता है। इसका नतीजा यह निकलता है कि आपको नींद ही नहीं आती है। तय समय पर खुद को सोने के लिए तैयार करें।

30 मिनट पहले टीवी बंद कर दें
आमतौर पर पूरे दिन थकने के बाद हम आराम में या तो कंप्यूटर पर बाकी काम खत्म करते हैं या टीवी से मनोरंजन करते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि टीवी और कंप्यूटर की स्क्रीन से आने वाली रोशनी हमारे शरीर को ये एहसास दिलाती रहती है कि अभी दिन है। इस कारण हमारा शरीर सोने के लिए तैयार नहीं हो पाता। इसका सबसे अच्छा विकल्प ये है कि आप या तो कुछ लिखें या कोई किताब पढ़ें।

गाने सुनें
संगीत में जादू होता है। ये मन की थकान को कम करता है, जिससे शरीर की थकान भी कम हो जाती है। सोने से पहले मधुर संगीत सुनें, नींद जल्दी आती है।

दिन में झपकी लेने से बचें
दोपहर के खाने के बाद अक्सर लोग झपकी लेते हैं। झपकियां रात की नींद में रुकावट पैदा करती हैं। दिन में सोते भी हैं तो 15 मिनट से ज्यादा न सोएं ताकि रातों की नींद खराब न हो।

कमरे का तापमान कम कर दें
कोई जरूरी नहीं है कि आपके कमरे में एसी हो ही। आप अपने कमरे की सारी खिड़कियां खोल सकते हैं। कमरे का तापमान जब कम होता है, तो नींद जल्दी आती है। अगर एसी या कूलर है तो सोने पे सुहागा। 19 डिग्री सेल्शियस नींद आने के लिए सही तापमान माना जाता है।

तनाव को कहें बाय-बाय
तनाव में लोग सिर्फ करवटें बदलते हैं, नींद नहीं आती है। इसलिए अच्छी और गहरी नींद के लिए सोने के समय तनाव को बाय-बाय कहें।

बिस्तर का उपयोग
अपने दैनिक कार्य बेडरूम के बाहर ही निपटाएं और बिस्तर का प्रयोग सिर्फ सोने के लिए ही करें। अगर लेटने के 10-15 मिनट के भीतर नींद न आए तो खुद को किसी बोझिल काम में व्यस्त करें, फटाफट नींद आ जाएगी।