आरोग्य सेतु ऐप के बारे में ये जानकारी भी रखिए, काम आएगी

254

भारत सरकार कोरोना से लड़ने के लिए कई कदम उठा रही है। इन्हीं प्रयासों में से एक है आरोग्य सेतु मोबाइल एप। केंद्र सरकार लोगों से इस मोबाइल एप को डाउनलोड करने के लिए कह रही है। यहां तक कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप को डाउनलोड करने के लिए कह रहें हैं। राष्ट्र के नाम संबोधन में भी उन्होंने इसे डाउनलोड करने की अपील की।

केंद्र सरकार का दावार है कि इस मोबाइल एप के जरिए लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण के प्रति आगाह किया जा सकता है। इसके साथ ही आसपास कोई कोरोना संदिग्ध होने पर आपको सतर्क भी करता है। दावा किया जा रहा है कि अगर आपके मोबाइल में ये एप होगा तो आप इससे अपने आसपास के कोरोना संदिग्धों का पता चल जाएगा।

यह भी पढ़े :   बड़ी खबर। कोरोना के 66 नए मरीज मिले, देहरादून में भी बढ़ी संख्या

इस मोबाइल एप को android और IOS दोनों ही प्लेटफार्म वाले मोबाइल्स में डाउनलोड किया जा सकता है। ये ऐप पूरी तरह से फ्री है।

कैसे काम करता है ये एप

केंद्र सरकार के जरिए लांच किए गए इस ऐप में यूजर को अपनी कुछ जानकारियां भरनी पड़ती हैं। इसके बाद ये ऐप आपको रजिस्टर कर लेता है। इसके लिए आपको अपना मोबाइल नंबर देना अनिवार्य है। मोबाइल पर आए OTP वैरिफिकेशन के बाद ही एप एकि्टव होता है।

जैसे-जैसे आप ऐप में आगे बढ़ते जाएँगे आपका जेंडर, उम्र, विदेश यात्रा का इतिहास और सर्दी, खाँसी और ज़ुकाम जैसी चीज़ों के बारे में हाँ या ना जैसे कुछ सवाल आते रहेंगे.

ऐप आपसे डायबिटीज़ (मधुमेह) या हाइपरटेंशन (हाई ब्लड प्रेशर) के किसी इतिहास के बारे में भी जानकारी जुटाएगा.

यह भी पढ़े :   कोरोना रिपोर्ट। 51 नए मरीज मिले, कुल संख्या इतनी हुई

बहरहाल, ऐप में सोशल डिस्टेंसिंग के मायने और तरीक़ों की विस्तृत जानकारी के अलावा कोविड-19 से जुड़े सभी ताज़ा अपडेट्स भी आते रहते हैं.

ख़ास बात ये है कि आरोग्य सेतु ऐप ब्लूटूथ तकनीक और जीपीएस (GPS) के ज़रिए आपकी मौजूदा लोकेशन का इस्तेमाल करने के बाद ही ये ट्रैक कर सकता है कि कहीं आप किसी कोरोना-संक्रमित मरीज़ या कोरोना संक्रमण के शक़ वाले मरीज़ के पास तो नहीं हैं.

साथ ही अगर आप ज़रूरत के समय में वॉलंटियर या स्वयंसेवक बनना चाहते हैं तो आप ऐप में ये जानकारी भी दर्ज कर सकते हैं.

ऐप को लेकर विवाद

इस मोबाइल ऐप को लेकर कुछ आपत्तियां भी दर्ज की जा रहीं हैं। इस ऐप के जरिए सरकार पर नागरिकों के स्वास्थ संबंधी जानकारियां का डाटा इकट्ठा करने का आरोप है। इसके साथ ही कहा है कि ये ऐप नागरिकों की निजता में सेंध लगा रहा है। हालांकि केंद्र सरकार ऐसे सभी आरोपों से इंकार कर चुकी है। लोग इस एप के लिए हमेशा ब्लू टुथ और लोकेशन को ऑन रखने पर हैरानी जता रहें हैं। सरकार का तर्क है कि इससे आपके किसी संक्रमित व्यक्ति के करीब जाने पर अलर्ट देना मुमकिन होगा।

यह भी पढ़े :   बाबा रामदेव को हाईकोर्ट का नोटिस, दवा पर एक हफ्ते में मांगा जवाब

अगर आप इस मोबाइल एप को डाउनलोड करना चाहतें हैं तो यहां क्लिक करें ृ

एंड्रायड वर्जन

IOS वर्जन 

Lockdown – 2 को लेकर गाइडलाइन पढ़िए, इनको मिली है छूट

(आपको हमारी खबरें कैसे लगती हैं हमें कमेंट बाक्स में बताएं। हमे फेसबुक पर फॉलो करें।)

 

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here