इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पर जमातियों को छुपा कर रखने का आरोप था, जेल भेजे गए

305

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर मो. शाहिद को दिल्ली के निजामुद्दीन की तब्लीगी जमात में शामिल लोगों को छुपाकर रखने का आरोप लगा है। पुलिस ने प्रोफेसर के साथ ही 29 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें 16 विदेशी नागरिक हैं। इन्हें नैनी जेल भेज दिया गया है।

पुलिस ने प्रोफेसर मो. शाहिद के खिलाफ महामारी एक्ट और साजिश में शामिल होने संबंध आरोप लगाए हैं। विदेशी लोगों को फॉरेनर्स एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया है। विदेशियों में नौ थाईलैंड के नागरिक हैं। सात इंडोनेशिया के हैं। प. बंगाल और केरल का भी एक एक व्यक्ति शामिल है।

यह भी पढ़े :   भारत में भयावह हुआ कोरोना, 6 लाख से अधिक मरीज, 18 हजार से अधिक मौतें

आरोप है कि विदेशियों के प्रयागराज में होने की जानकारी पुलिस को नहीं दी गई। पुलिस की जांच में सामने आया कि विदेशी नागरिकों के प्रयागराज में रहने व खाने की व्यवस्था प्रोफेसर के जरिए की गई थी। प्रोफेसर शाहिद ने ही इन विदेशी नागरिकों के मस्जिद में ठहरने की व्यवस्था भी की थी।

पुलिस की जांच को लेकर मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विदेशी नागरिकों के प्रयागराज आने पर भी रोक थी। बावजूद इसके वो प्रयागराज में रुके हुए थे।

 

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here