देहरादून स्टेशन का बोर्ड ट्वीट कर फंस गए संबित पात्रा, लोग कर रहें हैं खिंचाई

221

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने सोमवार को एक तस्वीर को ट्वीट किया और बताया कि अब देहरादून रेलवे स्टेशन के नाम को बोर्ड पर संस्कृत में भी लिखा गया है. उन्होंने जो तस्वीर ट्वीट की थी उसमें देहरादून हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा उर्दू की जगह संस्कृत में भी देहरादूनम लिखा हुआ था।

हालांकि संबित पात्रा यहां गलती कर गए। संबित ने ये पता लगाने की कोशिश भी नहीं की कि जो तस्वीर उन्होंने ट्वीट की है वो सही है या गलत। दरअसल संबित पात्रा ने एक पुरानी तस्वीर ट्वीट कर दी। जो सैंपल के तौर पर इस्तमाल की गई थी। संबित के इस ट्वीट के बाद रेलवे ने साफ कर दिया कि इसमें कोई सच्चाई नहीं है और स्टेशन पर ऐसा कुछ नहीं किया गया है. सूत्रों ने बताया कि साल 2019 के जनवरी महीने में बीजेपी के एक विधायक ने ऐसा करने के लिए जरूर रेल मंत्रालय को चिट्ठी लिखी थी. इसके पीछे उन्होंने यह दलील थी कि उत्तराखंड में संस्कृत को दूसरी भाषा का दर्जा प्राप्त है इसलिए ऐसा किया जाए.

यह भी पढ़े :   फिलहाल उत्तराखंड में स्कूल खुलने की संभावना कम, पैरेंट्स की भी यही राय

 

सूत्रों के मुताबिक संबित पात्रा ने जिस बोर्ड की तस्वीर को ट्विटर पर शेयर किया वो देहरादून रेलवे स्टेशन पर फिलहाल नहीं है। कुछ समय के लिए संस्कृत में बोर्ड लगाया गया था लेकिन जल्द ही उसे हटा दिया गया। बाद में रेलवे ने साफ कर दिया था कि इस संबंध में कोई आदेश जारी नहीं हुआ है। यूजर्स ने बाद में संबित को ट्वीट कर मौजूदा बोर्ड की फोटो भी भेजी।

हालांकि कुछ स्थानीय संस्थाओं द्वारा इसका विरोध किए जाने के बाद इस कार्य को रोक दिया गया था. इस मामले में उत्तर रेलवे के प्रवक्ता से भी बात करने की कोशिश की गई लेकिन ऐसा नहीं हो पाया.

यह भी पढ़े :   उत्तराखंड के अफसरों के खिलाफ शासन को मिल रहीं हैं शिकायतें, RTI से हुआ खुलासा

 

संबित पात्रा की इस फेक फोटो को शेयर करने पर लोगों ने ट्वीटर पर खूब खिंचाई की। कई लोगों ने altnews.in का वेबलिंक शेयर कर संबित को पढ़ने की सलाह दी है।

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here