अब LIC में अपनी हिस्सेदारी बेचेगी सरकार, बजट भाषण में हुआ ऐलान

234

नरेंद्र मोदी सरकार ने अब LIC में अपनी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर ली है। इस बात का ऐलान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने अपने बजट भाषण में किया है। ये हिस्सेदारी आईपीओ (IPO) के जरिए बेची जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार भारतीय जीवन बीमा निगम का आईपीओ लेकर आएगी और इसके जरिए एलआईसी में अपनी हिस्सेदारी बेचेगी।

गौरतलब है कि वित्त वर्ष यानी 2019-20 के शुरुआती छह महीनों (अप्रैल-सितंबर) में एलआईसी की गैर निष्पादित संपत्त‍ि यानी NPA में 6.10 फीसदी की बढ़त हुई है. यह एनपीए निजी क्षेत्र के यस बैंक, आईसीआईसीआई, एक्सिस बैंक के आसपास ही है.

यह भी पढ़े :   Unlock -2 की गाइड लाइन जारी, स्कूलों, जिम, सिनेमाघरों को लेकर ये हुआ फैसला

एलआईसी से कर्ज लेकर दबा लेने वाली डिफॉल्टर कंपनियों में कई बड़े नाम शामिल हैं. इनमें एस्सार पोर्ट, गैमन, IL&FS, डेक्कन क्रॉनिकल, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज, आलोक इंडस्ट्रीज, भूषण पावर, अमट्रैक ऑटो, एबीजी शिपयार्ड, जीवीके पावर, यूनिटेक और जीटीएल शामिल हैं. एलआईसी ने ऐसी कई कंपनियों को टर्म लोन और एनसीडी के रूप में कर्ज दिया है. इनमें से कई डिफॉल्टर से पैसा वापस मिलना काफी मुश्किल है.

हालांकि LIC में सरकार की हिस्सेदारी बेचने की बजट में घोषणा होते ही विपक्ष के सांसदों ने खासा विरोध किया।

क्या LIC डूबने वाली है? हालात अच्छे नहीं बताए जा रहें हैं

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here