इतिहास में पहली बार बिन भक्त खुले केदार बाबा के द्वार, इनके नाम से हुई पहली पूजा

40

संभवत: ये पहली बार है कि ग्यारह ज्योतिर्लिंगों में से एक बाबा केदारनाथ धाम के कपाट सिर्फ 16 लोगों की मौजूदगी में खुले हों। बुधवार को बाबा केदारनाथ के कपाट कुछ इसी तरह से खुले।

29 अप्रैल को बाबा केदारनाथ धाम के पूरे विधि विधान से सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर खोल दिए गए। इस दौरान मंदिर के पुजारी मौजूद रहे। इसके साथ ही व्यवस्था और प्रशासन से जुड़े लोगों ने बाबा के दर्शन किए। कुल 16 लोग ही इस दौरान मौजूद रहे।

केदारनाथ धाम में पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से हुई। पहला रुद्राभिषेक पीएम मोदी के नाम से ही कराया गया है।

यह भी पढ़े :   बड़ी खबर। कोरोना के 66 नए मरीज मिले, देहरादून में भी बढ़ी संख्या

केदारनाथ धाम में अच्छी खासी बर्फ जमा है। कोरोना महामारी के चलते इस बार भक्तों को बाबा के दर्शन नहीं हो पाए हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने श्रद्धालुओं को बाबा केदारनाथ के धाम के कपाट खुलने की शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने अपने संदेश में कहा, सभी श्रद्धालुओं को शुभकामनाएं. आपका मनोरथ पूर्ण हो, बाबा केदार का आशीष सभी पर बना रहे, ऐसी मैं भगवान केदारनाथ से कामना करता हूं. कोरोना महामारी के इस वैश्विक संकट में हम बाबा केदार की आराधना घर में रह कर ही करें, सोशल डिस्टेंसिंग का अवश्य अनुपालन करें, घर में रहें, सुरक्षित रहें.

यह भी पढ़े :   कोरोना रिपोर्ट। 51 नए मरीज मिले, कुल संख्या इतनी हुई

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here