बेरोजगारी: दसवीं पास वालों की नौकरी के लिए इंजीनियर लगे लाइन में

162

देश में बेरोजगारी के हालत दिन पर दिन बिगड़ते जा रहें हैं। हालात ये हैं कि अब इंजीनियरिंग की डिग्री वाले बच्चे पार्किंग अटेंडेंट की नौकरी करने के लिए मजबूर है। चेन्नई में ऐसा ही कुछ हो रहा है। यहां हाल में बनाए गए पार्किंग स्लाट्स में सहायक के लिए आवेदन मांगे गए। आवेदन करने वालों को दसवीं पास होना जरूरी था।

हालांकि पार्किंग सहायक की नौकरी निकलते ही बड़ी संख्या में इंजीनियरिंग और एमबीए डिग्री धारकों ने आवेदन कर दिया। पार्किंग सहायक नियुक्त करने का काम कर रही कंपनी के मुताबिक तकरीबन 1400 लोगों ने नौकरी के लिए आवेदन किया जिसमें से पचास फीसदी यानी 700 के आसपास इंजीनियरिंग और एमबीए डिग्री धारक हैं। इनमें से अधिकतर वर्किंग क्लास में शामिल होकर अपनी आजीविका चलाना चाहते हैं। सिविग इंजीनियरिंग कर चुके कई आवेदक रियल स्टेट सेक्टर में चल रही सुस्ती के चलते नौकरी नहीं पा सके। ऐसे में पार्किंग सहायक की नौकरी उनकी मजबूरी है।

यह भी पढ़े :   7 दिन में बाबा रामदेव के बदले सुर, कोरोना की दवा पर अब ये दिया बयान

ये भी पढ़िए – क्या है बुरके में कैमरा छिपाकर शाहीन बाग जाने वाली गुंजा कपूर और नरेंद्र मोदी का कनेक्शन

स्थानीय मीडिया के मुताबिक फिलहाल पार्किंग अटेंडेंट के पद पर पूर्व फौजी काम कर रहें हैं जो आमतौर पर दसवीं पास हैं। पहली बार ऐसा हो रहा है कि इंजीनियरिंग पास और एमबीए किए हुए लोग आवेदकों की लिस्ट में शामिल हो रहें हैं।

इस बार पार्किंग के लिए चेन्नई में विशेष तौर पर मोबाइल एप को लॉंच किया गया है। पार्किंग सहायकों से नागरिकों को मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के प्रति प्रेरित करने को कहा जा रहा है। पार्किंग सहायकों को नियुक्त करने का कामकाज देख रही कंपनी को उम्मीद है कि इंजीनियरिंग और एमबीए किए लोगों के पार्किंग सहायक बनने से उन्हें काम करने में आसानी होगी।

PM नरेंद्र मोदी क्यों कर रहे थे सोशल मीडिया छोड़ने की बात, यूं उठा रहस्य से पर्दा

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here