बाबा नीम करोरी का कैंची धाम। दिव्य और अलौकिक। पूरी दुनिया में विख्यात। खूबसूरत पहाड़ी के बीच स्थित यह धार्मिक स्थल अब और दिव्य व भव्य नजर आएगा। राज्य सरकार इसे चार धाम की तर्ज पर विकसित करेगी।

जिलाधिकारी नैनीताल ने परियोजना तैयार कर शासन को भेज दिया है। जल्द ही काम शुरू हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने खुद इसकी निगरानी की बात कही है।

सुंदरीकरण के लिए 60 करोड़ रुपये की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की गई है। निर्माण की जिम्मेदारी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) को दी गई है।

श्रद्धालुओं के लिए कैंची धाम में भव्य ध्यान केंद्र बनाया जाएगा। यह दो मंजिला होगा। इसमें सत्संग हॉल बनेगा। इसकी क्षमता 130 व्यक्तियों की होगी। आयुर्वेदिक उपचार हॉल का भी निर्माण होगा। योगा हॉल के साथ ओपन डेस्क भी बनाई जाएगी। आधुनिक शौचालय और लिफ्ट की भी व्यवस्था की जाएगी।

देश-विदेश से भक्त बाबा के दर्शन के लिए मंदिर पहुंचते हैं। ऐसे में जाम के साथ ही वाहनों की पार्किंग समस्या बढ़ जाती है। इसके समाधान के लिए आठ मंजिला पाॄकग कांप्लेक्स बनाया जाएगा। इसमें 600 से अधिक वाहन खड़े हो सकेंगे।

कैंची धाम जीवनदायिनी शिप्रा नदी के तट पर है। परियोजना के तहत इसके घाटों का भी सुंदरीकरण किया जाएगा। पौधों के साथ ही लेजर लाइटिंग व बैठने की व्यवस्था भी की जाएगी।
धाम के पास 1.3 किलोमीटर का ग्रीन कॉरिडोर बनेगा। इसके अलावा ओपन एयर थिएटर, फूड कोर्ट भी होंगे।