कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस साल उत्तराखंड में कांवर यात्रा रोक दी गई है। वहीं अब मनाही के बावजूद कांवर यात्रा के लिए हरिद्वार आने वाले अन्य राज्यों को क्वारंनटीन करने की तैयारी की गई है।


kanwar yatra in uttarakhand

 

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सीएम पुष्कर सिंह धामी ने इस साल भी कांवर यात्रा को रद्द कर दिया है। पिछले साल भी ये यात्रा रद्द ही रही थी। वहीं इस इस बार । पुलिस ने प्रदेश की सीमा क्षेत्रों से सटे यूपी के जिलों के थाना व क्षेत्राधिकारियों के साथ बैठक शुरू कर दी है। पुलिस अन्य राज्यों से उत्तराखंड की सीमा में आने वाले कांवरियों को रोकने के लिए सख्ती बरतने की तैयारी में हैं। रोक के बावजूद हरिद्वार आने वाले कांवरियों से सख्ती से निपटा जाएगा। कांवरियों को रोकने के लिए उत्तराखंड की पुलिस ने यूपी की पुलिस के साथ भी बैठक शुरु कर दी है। सीमाओं से लगे थानों और चौकियों के पुलिसकर्मियों के साथ बैठकें हो रहीं हैं।

मुकदमा भी, क्वारंटीन भी 

उत्तराखंड पुलिस ने यूपी पुलिस के साथ हुई बैठक में यूपी के अधिकारियों को बताया है कि उत्तराखंड में कांवर यात्रा पूरी तरह से प्रतिबंधित है। ये बात यूपी से आने वाले कांवरियों को बताई जाए। उत्तराखंड की पुलिस ने साफ कर दिया है कि यूपी से आने वाले कांवरियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा। और साथ ही उत्तराखंड में उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारनंटीन कर दिया जाएगा।

क्या है कांवड़ यात्रा का इतिहास, कब शुरु हुई, कैसे शुरु हुई, कौन था पहला कांवड़िया?

उत्तराखंड पुलिस ने साफ कर दिया है कि उत्तराखंड आने वाले लोग अगर किसी जरूरी काम से उत्तराखंड की सीमा में प्रवेश कर रहें हैं तो RTPCR निगेटिव रिपोर्ट अपने साथ रखें।


समाचारों के लिए हमें ईमेल करें – khabardevbhoomi@gmail.com। हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube