सियासत: जुगरान का जुगाड़ AAP के लिए बड़ा दांव, BJP के लिए नुकसान तो है

754

उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी ने अपने सियासी चौपड़ पर बाजियां खेलनी शुरु कर दी हैं। दिलचस्प ये है कि आम आदमी पार्टी ने खुद को देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बताने वाली बीजेपी में बड़ी सेंधमारी की है।


RAVINDRA JUGRAN JOINS AAP

 

उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी ने बीजेपी नेता रविंद जुगरान को तोड़ लिया है। तोड़ लिया इसलिए लिख रहें हैं क्योंकि जुगरान का जुगाड़ इतनी आसानी से नहीं हो सकता था। बीजेपी के पुराने चेहरों में शामिल रहें हैं जुगरान और उस दौर में बीजेपी के आक्रामक नेताओं में रहें हैं जब नरेंद्र मोदी का दौर नहीं हुआ करता था। यानि प्रतिकूल परिस्थितियों में भी रविंद्र जुगरान बीजेपी का झंडा डंडा उठाए रहें हैं। रविंद्र जुगरान एक समय में बीजेपी के कार्यकाल में दर्जाधारी राज्य मंत्री हुआ करते थे। जाहिर है कि रविंद्र जुगरान बीजेपी के लिए एक बड़ा चेहरा थे। इसीलिए हम मानते हैं कि रविंद्र जुगरान को बीजेपी ने तोड़ लिया है। क्योंकि इतनी आसानी से रविंद्र जुगरान को आप की सदस्यता नहीं दिलाई जा सकती थी।

रविंद्र जुगरान को पार्टी में लाकर आप ने एक और तीर मारा है। या यूं कहिए कि एक तीर से दो निशाने साध लिए हैं। रविंद्र जुगरात राज्य आंदोलनकारी रहें हैं. वो राज्य निर्माण के लिए योगदान देने वालों में से एक हैं. राज्य आंदोलनकारियों के समूह में रविंद्र जुगरान अपनी अच्छी पकड़ भी रखते हैं। ऐसे में रविंद्र जुगरान को साथ लेना आप के लिए फाएदे का सौदा हो जाएगा।

रविंद्र जुगरान के साथ एक और खास बात है। वो सामाजिक मसलों को भी आक्रामक रूप से उठाने के लिए पहचाने जातें हैं। रविंद्र जुगरान इस बात की परवाह नहीं करते कि सरकार किसकी है। जनहित से जुड़ मसलों को लेकर रविंद्र जुगरान आक्रामक और मुखर रहें हैं। कोर्ट कचहरी तक मसलों की पैरवी करतें हैं और फैसले तक पहुंचाते हैं।

आम आदमी पार्टी के लिए रविंद्र जुगरान बड़ा चेहरा साबित हो सकते हैं। इससे राज्य के कुछ अन्य नेताओं के पार्टी में शामिल होने की उम्मीद बढ़ेगी। राज्य में चुनावी बिसात पर मौजूदा वक्त में आप का कोई वजूद नहीं है लेकिन संगठन की मजबूती से आने वाले चुनावों में वो बड़ा कारनामा कर सकती है।

ये भी पढ़िए – सियासत: ABP न्यूज का सर्वे, AAP की इंट्री और BJP का चुनावी चेहरा, बहुत मजा आएगा…