रुड़की में चर्च पर हुए हमले पर कांग्रेस ने निशाना साधा है। कांग्रेस की गढ़वाल मीडिया प्रभारी गरिमा माहरा ने इस घटना की जांच की मांग की है।


garima dasauniरुड़की में चर्च पर हुए हमले में सरकार पर सवाल उठाए जा रहें हैं। कांग्रेस ने इस मसले पर राज्य सरकार को घेरा है। कांग्रेस की गढ़वाल मीडिया प्रभारी रिमा दसौनी ने घटनाक्रम की कड़ी निंदा करते हुए रविवार को प्रदेश मुख्यालय में मीडिया बंधुओं के साथ बातचीत के दौरान राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यदि मुख्यमंत्री के जिले में मौजूदगी के बावजूद और प्रचंड बहुमत के बावजूद इस सरकार में धार्मिक स्थल भी अब सुरक्षित नहीं है तो इससे ज्यादा लानत की बात और क्या हो सकती है।

दरअसल रविवार को मांस प्रार्थना के लिए बड़ी संख्या में क्रिश्चियन समाज के लोग चर्च में एकत्रित होते हैं और देश और विश्व के लोगों की सुख समृद्धि और स्वास्थ के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं ऐसे में अचानक चर्च के अंदर बड़ी संख्या में अराजक तत्वों का हमला करना, महिलाओं के साथ अभद्रता एवं चर्च के अंदर तोड़फोड़ करना अपने आप में शर्मसार करने वाला है।

दसौनी ने आरोप लगाया की आगामी चुनाव के मद्देनजर इस तरह की घटना प्रदेश में होना संदिग्ध लगता है ।
दसोनी ने यह भी कहा की प्रदेश की मूलभूत समस्याओं और ज्वलंत मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए कुछ कुत्सित मानसिकता के लोगों के द्वारा ये सब किया जा रहा है जो निंदनीय है।

त्रिशूल पर्वत हादसा: 4 अधिकारियों के शव बर्फ से निकाले, दो की तलाश जारी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की हरिद्वार जिले में मौजूदगी के बावजूद जिस तरह से रुड़की के चर्च में अराजक तत्वों के द्वारा हमला किया गया वह देवभूमि ही नहीं देश के धर्मनिरपेक्षता पर गहरी चोट है।

दसोनी ने यह भी कहा कि जो लोग धार्मिक स्थलों को अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए निशाना बना रहे हैं उनका कभी भला नहीं हो सकता ।वह लोग भूल रहे हैं कि भारत देश अपनी अखंडता और एकता के लिए ही जाना जाता है हमारे देश में अलग-अलग जाति धर्म बोली भाषा पहनावे और संस्कृति के लोग एक गुलदस्ते की तरह रहते हैं ऐसे में इस तरह के घटनाक्रम देव भूमि पर एक बदनुमा दाग और विश्व पटल पर उत्तराखंड की छवि धुमिल कराने वाले हैं।

दसौनी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी राज्य सरकार से तत्काल प्रभाव से इस पूरे प्रकरण की जांच और दोषियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग करती है।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube