CAG रिपोर्ट। कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए भी कर्ज ले रही है त्रिवेंद्र सरकार

306

देहरादून। सीएजी ने 2017-18 की अपनी रिपोर्ट पेश कर दी है। ये रिपोर्ट मंगलवार को विधानसभा के पटल पर रखी गई. इस रिपोर्ट में त्रिवेंद्र सरकार के वित्तीय प्रबंधन पर सीएजी ने कई गंभीर सवाल खड़े किए हैं. सीएजी की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य का राजस्व घाटा भी खासा बढ़ गया है।

कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए भी कर्ज 

सीएजी की रिपोर्ट में सामने आया है कि राज्य का राजस्व घाटा बेहद तेजी से बढ़ा है। ये घाटा 2016-17 के 383 करोड़ रुपए से बढ़कर 2017-18 में 1978 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। राज्य का राजकोषीय घाटा भी बढ़ा है। ये 2017-18 में 7935 करोड़ रुपए तक पहुंच गया। जबकि 2016-17 में यही घाटा 5467 करोड़ रुपए था। ये घाटा राज्य के बजट स्ट्रक्चर के हिसाब से मानक से अधिक हो गया है। यानी त्रिवेंद्र सरकार में राज्य की आर्थिक हालत खस्ता हो गई है।

यह भी पढ़े :   7 दिन में बाबा रामदेव के बदले सुर, कोरोना की दवा पर अब ये दिया बयान

CAG ने उठाए सवाल

सीएजी ने त्रिवेंद्र सरकार के वित्तीय प्रबंधन पर सवाल खड़े किए हैं। सीएजी ने टिप्पणी की है कि सरकार अपने कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए भी कर्ज ले रही है। सरकार ने 2017-18 ने 3897 करोड़ रुपए का कर्ज लिया।

कर्ज उतारने में जाएगी कमाई 

राज्य पर बेतहाशा कर्ज बढ़ता जा रहा है। हालात ये हैं कि अगले दस वर्षों तक लगातार प्रति वर्ष औसतन 4004 करोड़ रुपए का भुगतान करना होगा। राज्य पर 26 हजार 662 करोड़ से अधिक का कर्ज हो गया है। इसका ऋण भी चुकाना होगा। वहीं सरकार जितना औसतन प्रति वर्ष भुगतान कर रही है उतनी कमाई उसे नहीं हो रही है।

यह भी पढ़े :   बड़ी खबर। कोरोना के 66 नए मरीज मिले, देहरादून में भी बढ़ी संख्या

भगोड़े डाक्टरों से वसूली नहीं

सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में सरकार की कई बड़ी लापरवाहियों का कच्चा चिट्ठा भी खोलकर सार्वजनिक कर दिया है। सीएजी के मुताबिक सरकार अनुबंध तोड़ कर राज्य से भागने वाले डाक्टरों से 18 करोड़ रुपए की वसूली नहीं कर पाई है। यही नहीं, कई योजनाओं के उपयोगिता प्रमाण पत्र भी सीएजी को उपलब्ध नहीं कराए गए। राज्य पर्यावरण संरक्षण और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की मनमानी का उल्लेख भी सीएजी की रिपोर्ट में है। सीएजी की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में केंद्र के मानकों के मुताबिक पर्यावरणीय निगरानी नहीं हो रही है।

मृत लोगों को भी पेंशन

यह भी पढ़े :   आज शाम 4 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को करेंगे संबोधित

सीएजी रिपोर्ट के मुताबिक राज्य का समाज कल्याण विभाग मृत लोगों को भी पेंशन बांट रहा है। इसके साथ ही वृद्धावस्था पेंशन के लाभार्थियों की चयन प्रक्रिया पर भी सवाल उठाए गए हैं। इसके साथ ही कई लोगों को दोहरा भुगतान किया गया था तो कई अपात्र व्यक्तियों को भी पेंशन दी गई है।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here