नहीं रहीं उत्तराखंड की आवाज कबूतरी देवी, सरकार ने नहीं भेजा बचाने के लिए हेलिकॉप्टर

332

सरकार और स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों की लापरवाही से उत्तराखंड की आवाज कबूतरी देवी की मौत हो गई। परिजनों की माने तो उन्हें बचाया जा सकता था हायर सेंटर लाने के लिए हेलिकॉप्टर उपलब्ध करा दिया गया होता। कबूतरी देवी पिथौरागढ़ के जिला अस्पताल में भर्ती थी। उन्हें देहरादून ले जाने के लिए पिछली शाम से हेलीकॉप्टर का इंतजार होता रहा। हेलीकॉप्टर की व्यवस्था व्यवस्था नहीं होने से उनकी आज सुबह मौत हो गई।

पिथौरागढ़ के क्वीतड़ गांव की रहने वाली कबूतरी देवी प्रदेश की जानी मानी लोक गायिका थीं। गायन की कई विधाओं में माहिर लोक गायिका राज्य की सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन देश भर में कर चुकी हैं।

यह भी पढ़े :   राम मंदिर : निमंत्रण पत्र में लगा है खास तरीके का सिक्योरिटी कोड, जाने और क्या है खास

70 वर्ष की हो चुकी कबूतरी देवी का स्वास्थ शुक्रवार को अचानक खराब हो गया। परिजन उन्हें जिला चिकित्सालय लाए। वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. एसएस कुंवर ने उनके स्वास्थ की जांच की। जांच के बाद उन्होंने बताया कि कबूतरी देवी का ब्लड प्रेशर कम है और उनका हॉर्ट कमजोर हो रहा है।

उपचार के बाद हालत में हल्का सुधार होने के बाद उन्हें हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया है। इस दौरान नगर के तमाम लोगों ने जिला चिकित्सालय पहुंचकर उनका हालचाल जाना। परिजन उन्हें हेलीकॉप्टर से देहरादून ले जाने का प्रयास कर रहे थे। शक्रवार सायं उन्हें हैलीकॉप्टर से देहरादून ले जाना था। शाम को हैलीकॉप्टर नही आया। शनिवार सुबह भी हेलीकॉप्टर नहीं पहुंचा और उनकी अस्पताल में ही मौत हो गई।

यह भी पढ़े :   अयोध्या पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, 5 अगस्त को दोपहर 12:30 बजे होगा भूमि पूजन

सूचना मिलते ही लोग अस्पताल में जुटने लगे है। प्रशासन की ओर से एसडीएम नायब तहसीलदार पहुंचे। वहीं, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। लोगों का कहना था कि यदि समय रहते हेलीकॉप्टर की व्यवस्था हो जाती तो कबूतरी देवी की जान बच सकती थी।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here