कोरोना के चलते लंबे समय तक बंद रहने के बाद शुरु हुई चार धाम यात्रा की SOP को लेकर सरकार ने बड़ा बदलाव किया है। सरकार ने पंजीकृत व्यक्ति के न पहुंचने की स्थिती में वेटिंग वाले श्रद्धालु को दर्शन की अनुमति देने का फैसला किया है।


char dhamउत्तराखंड चारधाम यात्रा 2021 संचालन हेतु उत्तराखंड शासन के धर्मस्व विभाग द्वारा जारी एसओपी में तीर्थ यात्रियों की संख्या निर्धारित की गयी। इस बीच सरकार को पता चला कि 18 सितंबर से शुरू हुई चारधाम यात्रा में देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट www.devasthanam.uk.gov.in मे पंजीकृत तीर्थयात्रियों में से प्रतिदिन कम श्रद्धालु चारों धाम पहुंच रहे है।

मोहंड – डाटकाली के बीच मोबाइल की घंटी बजाने को अनिल बलूनी ने ली बैठक

ऐसे में एसओपी के अनुसार श्री बदरीनाथ धाम हेतु 1000 ( एक हजार),श्री केदारनाथ हेतु 800( आठ सौ) श्री गंगोत्री हेतु 600 (छ: सौ) श्री यमुनोत्री हेतु 400 (चार सौ) तीर्थयात्री प्रतिदिन चारों धाम पहुंच सके इसके लिए प्रदेश के धर्मस्व विभाग द्वारा आदेश जारी किया गया। धर्मस्व एवं तीर्थाटन सचिव हरिचंद्र सेमवाल ने कहा कि एसओपी के अनुसार जो पंजीकृत तीर्थयात्री निर्धारित तिथि को उत्तराखंड चारधाम नहीं पहुंच पा रहे हैं, उनके स्थान पर अन्य पंजीकृत तीर्थयात्री चारधामों में दर्शन को जा सकेंगे।

 

आयुक्त गढ़वाल/मुख्य कार्यकारी अधिकारी चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड , जिलाधिकारी चमोली, रूद्रप्रयाग, उत्तरकाशी को आदेश पर तत्काल अमल किये जाने हेतु कहा गया है, साथ ही तीनों जिलों के पुलिस अधीक्षकों को भी अनुपालन हेतु आदेश भेजे गये हैं।

आपको बता दें कि राज्य में कोरोना के चलते लगभग डेढ़ साल तक चारधाम यात्रा बंद रही। हाल ही हाईकोर्ट की मंजूरी मिलने के बाद राज्य में चार धाम यात्रा की शुरुआत हुई है। हालांकि कोर्ट ने प्रतिदिन दर्शन करने वाले यात्रियों की संख्या निर्धारित कर रखी है।


हमारे Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें  Twitter और Koo पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें – Youtube