भाजपा विधायक हरभजन सिंह चीमा का चुनाव लड़ने से इंकार, बेटे के लिए मांगा टिकट

भाजपा विधायक हरभजन सिंह चीमा साल 2022 में होने वाला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। अपनी बढ़ती उम्र का हवाला देते हुए विधायक चीमा ने भाजपा हाईकमान से बेटे त्रिलोक सिंह चीमा के लिए टिकट मांगा है। चीमा ने कहा है कि वह अपने बेटे त्रिलोक को भाजपा में शामिल कराकर काशीपुर से भाजपा का टिकट दिलाने के लिए प्रयास करेंगे।

विधायक चीमा शुक्रवार को अपने कैंप कार्यालय में पत्रकारों से मुखातिब हुए। चीमा ने कहा कि उनकी आयु लगभग 76 वर्ष हो गई है। पार्टी आमतौर पर 75 से ऊपर आयु के लोगों को टिकट नहीं देती है। लिहाजा, वे खुद ही इस बार चुनाव मैदान में नहीं उतरेंगे। विधायक चीमा ने कहा कि वह काशीपुर सीट से अपने बेटे त्रिलोक सिंह चीमा की दावेदारी पेश कर रहे हैं। कहा कि त्रिलोक सिंह उनके साथ लंबे समय से राजनीतिक अनुभव ले चुके हैं। उनके हर चुनाव में बेटे त्रिलोक का अहम योगदान रहा है।

कहा कि जिस तरह से 20 वर्ष तक वह काशीपुर विधानसभा क्षेत्र की सेवा करते रहे हैं, वैसे ही त्रिलोक भी उनके पदचिह्नों पर चलते हुये यहां की सेवा के लिए तत्पर हैं। वहीं भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय या अकाली दल से चुनाव लड़ने के सवाल पर चीमा ने कहा, वह भाजपा से टिकट मिलने पर ही बेटे को चुनाव मैदान में उतारेंगे।

विधायक चीमा ने कहा कि उनके बेटे के काशीपुर सीट से टिकट की दावेदारी को लेकर कोई नाराज नहीं होगा। अन्य लोगों की दावेदारी के सवाल पर बोले, दावेदारी कई लोग करते हैं, लेकिन भाजपा का टिकट जिसे भी मिलेगा उसे पार्टी के सभी कार्यकर्ता एकजुट होकर चुनाव लड़ायेंगे।