23 हजार संक्रमित, 723 मौतें, फिर भी हमें नहीं पता कि भारत में कोरोना आया कैसे?

330

भारत में कोरोना से जुड़े आंकड़े कभी डराते हैं तो कभी राहत देते हैं। शुक्रवार को भी कुछ ऐसा ही रहा। शुक्रवार को कोरोना वायरस से संक्रमण के 1,752 मामले सामने आए हैं। ये संख्या भारत में वायरस का संक्रमण शुरू होने के बाद से एक दिन में अब तक के सबसे ज़्यादा मामले हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़, देश में अब तक इस वायरस से संक्रमित होने वालों की संख्या 23,452 हो गयी है और 723 लोगों की मौत इस वायरस के कारण हो चुकी है।

हालांकि इस वायरस को मात देने वाले मरीजों का फ़ीसद बेहतर हुआ है और संक्रमण के कुल एक्टिव मामलों में यह 20.57 हो गया है। केंद्र सरकार का कहना है कि कोरोना वायरस के मामलों के दुगने होने का समय भी बढ़ा है। पहले यह मामले 7.5 दिन में दुगने हो रहे थे और अब इसमें 10 दिन का समय लग रहा है।

यह भी पढ़े :   ऐश्वर्या राय बच्चन भी कोरोना पॉजिटिव, बेटी को भी कोरोना संक्रमण

केंद्र सरकार ने कहा है कि देश में 80 जिले ऐसे हैं, जहां पिछले 14 दिनों में एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने शुक्रवार को कहा कि अब उनका ध्यान इस बात पर है कि ग्रीन जोन वाले जिलों में कोई भी नया मामला नहीं आने का स्टेटस बरकरार रहे और हम कुछ और जिलों को ग्रीन जोन कैटेगरी में जोड़ें।

23 हजार से अधिक मामले और 700 से अधिक मौतों के बाद भी इस बारे में कोई स्पष्ट जानकारी सरकार नहीं दे पाई है कि भारत में कोरोना का प्रवेश हुआ कहां से? हालांकि प्रधानमंत्री ने अपने पिछले संबोधन में दावा किया कि देश में कोरोना का पहला मरीज आने से पहले ही संदिग्धों की जांच का काम शुरु हो गया था। हवाई अड्डों पर जांच शुरु हो चुकी थी। अब ऐसे में सवाल यही है कि अगर भारत में जांच पहले से ही जारी थी तो फिर कोरोना को देश में प्रवेश मिला कैसे? किस स्तर पर चूक हुई। इस बात में दो राय नहीं हो सकती कि भारत में कोरोना का प्रवेश तो बाहर से ही हुआ है। गौरतलब है कि भारत में कोरोना से सबसे पहले कर्नाटक में 76 वर्षीय एक वृद्ध की मौत हुई थी जो सऊदी अरब से यात्रा कर लौटा था। हालांकि भारत में कोरोना का पहला मामला केरल में सामने आया था।

यह भी पढ़े :   श्री राम नेपाली थे, भारतीय नहीं, नेपाली पीएम ओली का बयान

हवाई अड्डों पर कोरोना संदिग्धों की जांच पर कनिका कपूर के सहारे भी सवाल उठाए जाते रहें हैं। कनिका कपूर कोरोना पॉजिटिव थीं और विदेश यात्रा कर भारत लौटने के बाद लोगों के साथ पार्टी में शामिल होती रहीं थीं।

कोरोना वायरस प्राकृतिक नहीं है, लैब में किसी ने बहुत सटीक काम किया है – नोबल पुरस्कार विजेता

 




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here