यूपी शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने हिंदू धर्म अपना लिया है। आपको बता दें कि गाज़ियाबाद के डासना देवी मंदिर में उन्होंने हिंदू धर्म को अपनाया। बता दें कि अब वसीम रिज़वी जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी कहलाएंगे ।

कुरान में मौजूद 26 आयतों को हटाने को लेकर वसीम रिज़वी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसे खारिज कर दिया गया था और उसी के बाद से वसीम रिजवी को अलग अलग मुस्लिम संगठनों से जान से मारने की धमकियां मिल रहीं थीं।

वसीम रिज़वी ने कई बार ऐसी बातें कही कि इस्लाम धर्म में वो सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं और अंततः उन्होंने अपनी स्वेच्छा और आज़ादी के लिए सनातन धर्म को अपना लिया। वसीम रिज़वी को यति नरसिंहानंद गिरी महाराज ने उन्हें सनातन धर्म को स्वीकार करवाया।

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन रहे वसीम रिज़वी ने काफी लंबे समय से इस्लाम धर्म के विरुद्ध ऐसी बातें उठाई जिसके लिए इस्लाम धर्म में ही उनका काफी विरोध हुआ और जान से मारने की धमकी मिलती रही। आपको बता दें कि कुरान की 26 आयतों को लेकर रिज़वी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी और तभी से मुस्लिम संगठनों की ओर से रिज़वी की हत्या करने और गर्दन काटने की धमकियां मिल रही थीं।

इसके बाद ही वसीम रिज़वी ने अपनी वसीयत जारी की थी जिसमें लिखा था कि ‘मरने के बाद मुझे दफनाया न जाए हिंदू रीति रिवाज के हिसाब से मेरा अंतिम संस्कार किया जाए’ ।